हसरत

ऐ चाँद जब तू मेरे दिल में चांदनी फैला गया,
रूह में एक सुकून सा छा गया,
अब कोई हसरत न रही कुछ पाने की,
जब चाँद खुद मुझमे समा गया |
                                              – निसर्ग