रस्म-ऐ-मोहब्बत

रस्म- ऐ-मोहब्बत को यारो की महफ़िल में छुपाये बैठा हूँ,

क्या करे दिलबर जब खुद ही दिलको समझाए बैठा हूँ ||

                                                                             – निसर्ग

Advertisements

वृन्दावन

सुहानी शाम , मस्तानी बरसात ,

पेंड़ोकी पत्तियों पे गिरती बारिशकी बूंदों की आवाज,

पंछियो का शोर , बाग़ में नाचते हुए मोर,

बारिश में भीगा हुआ तन , मचलता हुआ मन,

हर  लड़की में है राधा और लड़के में है किशन ,

यही तो है जवान दिलो का वृन्दावन ||

– निसर्ग